Sunday, December 21, 2008

आज बाज़ार में पा ब जूलां चलूँ

चश्म-ऐ-नम जाँ शोरीदा काफ़ी नहीं,
तोहमत-ऐ-इश्क पोशीदा काफ़ी नहीं,
आज बाज़ार में पा ब जूलां चलूँ।

दस्त-ऐ-अफशां चलूँ मस्त-ओ-रक्सां चलूँ,
खाक-ऐ-बर्सर चलूँ खून बदामाँ चलूँ,
राह तकता है सब शहर-ऐ-जानां चलूँ।

हाकिम-ऐ-शहर भी मजमुआ-ऐ-आम भी
तेरा इल्जाम भी,संग-ऐ-दुष्नामभी,
सुबह-ऐ-नाशाद भी रोज़-ऐ-नाकाम भी
उन् का दम साज़ अपने सिवा कौन है
शहर-ऐ-जनान में अब बा-सफ़ाकौन है
दस्त-ऐ-क़ातिल के शायाँ रहा कौन है
रख्त-ऐ-दिल बाँध लो दिल फुगारो,चलूँ
फिर हमीं क़त्ल हो आयें यारां, चलूँ ।

शब्द अनुवाद: पा ब जूलां-कैदी
शोरीदा: चिंतित,व्याकुल,खिन्न
पोशीदा: ओढा हुआ या गुप्त
दस्त-ऐ-अफशां:त्यागी,विरक्त
दुशनाम: अपशब्द
नाशाद:नाखुश,खिन्न

2 comments:

नीरज गोस्वामी said...

बेहतरीन...वाह.
नीरज

Swanand said...

wah sir achhaa kaam kar rahe ho.....